Monday, September 9, 2013

रामदेव चैतू का एक गीत

              
                                    
रामदेव चैतू (1942-1994) सूरीनामी संगीतकार थे । उनके पिता पंडित शास्त्री शिव प्रसाद चैतू भी संगीतकार थे । रामदेव चैतू बचपन में पिता के साथ खेत पर पले बढ़े और बचपन से ही मंदिर में भजन गाने के चलते संगीत से परिचित रहे । अफ़वाह यह है कि बार में झगड़ा होने पर कैदी जीवन में उनका संगीत विकसित हुआ । उनका संगीत अलबम सूरीनाम का पहला चटनी/बैठक गाना का अलबम माना जाता है । उनका लिखा और गाया यह गीत हमें अनेक सवालों से रू ब रू कराता है । गीत में आए हुए स्वामी विरजानंद के बारे में सूचना यह है कि वे आर्य समाज के संस्थापक स्वामी दयानंद सरस्वती के गुरु थे और पांच वर्ष की आयु में चेचक के चलते अंधे हो गए थे । वे संस्कृत के विद्वान थे और उन्होंने ही दयानंद सरस्वती को देश की मुक्ति के साधन के रूप में वेदों के प्रचार प्रसार का उपदेश दिया था । शायद शिष्य का जुझारूपन गुरु से ही आया था । आर्य समाज और सिक्खी से गुरु गोविंद सिंह का नाम तथा जात पांत छोड़ने की अपील के बीच कोई न कोई नाता होना चाहिए । साथ ही इसका एक व्यावहारिक पहलू भी है । सूरीनाम में अन्य कैरीबियाई द्वीपों की तरह ही काले, स्थानीय और भारत से गए लोग एक ही साथ खेतों में काम करते रहे होंगे । स्वाभाविक है कि कुछ सांस्कृतिक मनमुटाव रहा होगा जिसे और न बढ़ने देने की अपील भी इसमें हो सकती है । परदेश में रहना खुद एक युद्ध है जिसके चलते पूरा गीत एक ललकार से भरा हुआ है । भाषा में अलग अलग बोली बोलने वालों को समझ में आने लायक हिंदी का आग्रह है लेकिन भोजपुरी की छौंक पहचानना मुश्किल नहीं है और भोजपुरी भी ऐसी जिसमें अरबी-फ़ारसी इस तरह घुल मिल गए हैं कि उन्हें अलग से पहचानना मुश्किल है । शुद्ध संस्कृत शब्दों से भी परहेज नहीं है ।
     वीर होकर दुश्मनों से डरने से मरना भला
     लड़ना है लड़ के मर जा खटिया पर मरने से भला
इस वीरतापूर्ण आवाहन के बाद गायक लड़ाई की समझदारी भरी रणनीति सुझाता है
     एक हाथ में देश का झंडा दूजे में तलवार
     कौम का होगा तभी उद्धार
देश और कौम में देश सूरीनाम है क्योंकि ऐसा गीत में ही ‘एक हाथ में सूरीनाम का झंडा’ आया है और कौम भारतवंशी होंगे क्योंकि इसके साथ चलने वाले चित्रों की शृंखला में भारतवंशी लगातार दिखाई देते रहते हैं । चित्रों में ये लोग बेहाल दिखाई पड़ते हैं और किन्हीं किन्हीं चित्रों में इनके स्थानीय नायकों की मूर्तियां भी दिखाई पड़ती हैं । भारत से जिन नायकों की स्मृति लेकर ये गए थे उनके अतिरिक्त निश्चित रूप से स्थानीय नायक भी जन्मे होंगे जैसा आसाम के चाय बागानों में गए लोगों के साथ हुआ था ।
        गर चाहते हो तुम सब सुखी रहें रहने का ठिकाना बने
        तो जात पांत अब दूर भगाना होगा
        एक ही झंडा के नीचे अब सबको आना होगा
        जिससे हो कौम की रक्षा ऐसा पार्टी बनाना होगा
        गुरू गोविंद और विरजानंद की लाइन पर आना होगा
        एक हाथ में देश का झंडा---------------------
यूरोपीय प्रसंग में जब हम सुनते हैं कि आधुनिक अर्थ वाली पार्टी के लिए इस्तेमाल होने से पहले इस शब्द का मतलब पक्ष हुआ करता था तो यकीन नहीं होता । यहां कौम की रक्षा के लिए जिस पार्टी के बनाने का आवाहन है वह बहुत कुछ उसी तरह की कल्पना रही होगी तभी तो उसके लिए एकता पर सबसे अधिक बल दिया गया है ।
        सौ बातों की एक बात यही है कि तुम सब एकता को मत भूलना
        अरे एकता को भूल गया तो सूरीनाम देश में रहने का ठिकाना नहीं
आगे आने वाले भाई शायद अन्य गरीब हैं जिनके बीच फूट से आपस में सबका ही नुकसान होता रहा होगा । या यह भी हो सकता है कि शासक हिंदुस्तानियों में फूट डालकर उनके एक हिस्से को अपने साथ मिलाकर अन्य पर जुल्म करते रहे हों जिससे गायक अपने श्रोताओं को सावधान कर रहा है ।
        अपने आप भाइयों के ऊपर तुम सब जुल्म उठाना नहीं
        ये काम है आपका और किसी को बेगाना नहीं
अब तो सीधे सीधे गायक भारतवंशियों को ही सूरीनामी कह रहे हैं और उनसे ‘सीधापन’ भी त्याग देने को कह रहे हैं । सीधेपन के चलते धोखा खाने का अहसास सारे प्रवासियों की सामान्य अनुभूति होती है भले उन्हें स्थानीय लोग परम धोखेबाज समझते हों ।
        सीधेपन का सूरीनामियों अब रहा वो जमाना नहीं
        पीछे धोखा खा चुका है अब आगे धोखा खाना नहीं
        एक हाथ में देश का झंडा--------------------
पहले तो विरजानंद और गोविंद सिंह से गायक ने काम चलाना चाहा लेकिन काम चलता न देखकर उसी मकसद से गायक राम और कृष्ण को भी अपनी सहायता में बुला लाता है लेकिन मार्के की बात यह है कि राम और कृष्ण का यह वह अवतार है जिसमें वे मुख्य तौर पर योद्धा नजर आते हैं, महापुरुष या धार्मिक प्रतीक नहीं ।
       राम ने जब तलक रावण पर तीर ताना नहीं
       सीता को वापस ना दिया मानो कि वो समझा नहीं
       कृष्ण ने दुर्योधन को बहुत तरह समझाया
       लेकिन दुर्योधन मूर्ख वक्त को पहचाना नहीं
       आ गया है वक्त अब सूरीनामियों अब तुम इसे गंवाना नहीं
       पीछे धोखा खा चुका है अब आगे धोखा खाना नहीं
       एक हाथ में देश का झंडा----------------------
इस गीत को जब आप सुनते हैं तब लगता है कि मात्राओं को स्वरों की खींच तान से भी संतुलित किया जा सकता है । मात्राओं की विषमता का अनुभव ही नहीं होता । अधिकांश लोक गायन बिरहा, आल्हा, पचरा में इसी तरह होता है ।

    

1 comment: